Sanskritik aur Samajik Anusandhan

Sanskritik aur Samajik Anusandhan


Sanskritik aur Samajik Anusandhan
Sanskritik aur Samajik Anusandhan
2021, Vol. 2, Issue 2
समकालिक विश्व के संदर्भ में गांधी दृष्टि

पवन कुमार तिवारी

आज वही राष्ट्र सबसे ज्यादा सम्पन्न और शक्तिशाली है जिसके यहाँ शत प्रतिशत नागरिक शिक्षित हैं आज वह राष्ट्र शक्तिशाली राष्ट्र की श्रेणी में खड़ा है शिक्षा ही व्यक्ति को इस बात का बोध कराती है कि कैसे हमें समाज के निम्न और निचले लोगों के साथ बर्ताव और व्यवहार करना है और उन्हें भी समाज की मुख्य धारा से जोड़ना हैए गाँधी जी ने कहा था कि हमें समाज व राष्ट्र के सामाजिक गुणों व जनसामान्य के नैतिक मूल्यों को उच्च स्तर पर ले जाने के लिए सत्य का अनुकरण करना पड़ेगा क्योंकि सत्य हमारी एक ऐसी धरोहर है जो कि हमें किसी भी परिस्थिति में एक साथ रहने के लिए प्रेरित करती है और किसी भी विपरीत स्थिति में लड़ने के लिए साहस और धैर्य प्रदान करती है इसलिए जनमानस को सदैव इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि सत्य उसके जीवन की एक बहुमूल्य पूॅंजी है।
Download  |  Pages : 55-57
How to cite this article:
पवन कुमार तिवारी. समकालिक विश्व के संदर्भ में गांधी दृष्टि. Sanskritik aur Samajik Anusandhan, Volume 2, Issue 2, 2021, Pages 55-57
Sanskritik aur Samajik Anusandhan Sanskritik aur Samajik Anusandhan