Sanskritik aur Samajik Anusandhan

Sanskritik aur Samajik Anusandhan


Sanskritik aur Samajik Anusandhan
Sanskritik aur Samajik Anusandhan
2022, Vol. 3, Issue 2
सहजोबाई व दयाबाई की भक्ति व रहस्यवाद मे अंतर

Kalpana Verma

सहजोबाई व दयाबाई मध्यकाल की दो ऐसी संत थी,जो समाज के बंधनों को तोड़ अपने ज्ञान प्रकाश से समाज को मुक्ति का रास्ता दिखाती रही। दोनों संतों की भक्ति व रहस्यवाद में भिन्ता मिलती है। सहजोबाई गुरु कृपा को ही मुक्ति मानती हैं। सहजोबाई ने आदर्श व्यक्तित्व व समाज के लिए गुरु महत्व की प्राथमिकता को स्वीकार किया है,। वही दया बाई गुरु के द्वारा बताए राम नाम को स्मरण करने से विदेह मुक्ति व संपूर्ण इच्छाओं से छुटकारा पाने वाला मानती हैं। दयाबाई ने सत्संगति का महत्व और हरि भजन से मुक्ति का मार्ग प्रशस्त किया है।
Download  |  Pages : 4-6
How to cite this article:
Kalpana Verma. सहजोबाई व दयाबाई की भक्ति व रहस्यवाद मे अंतर. Sanskritik aur Samajik Anusandhan, Volume 3, Issue 2, 2022, Pages 4-6
Sanskritik aur Samajik Anusandhan